MLA किसे कहते हैं “MLA kise kahate hain”

MLA किसे कहते हैं अक्सर ये सवाल आपके दिमाग में भी ज़रूर आता होगा जब भी आप टेलीविजन में राजनीति से जुड़े समाचारों में विधायक के बारे में सुनते होंगे। तो आपको बता दे यह राजनीति का एक खास हिस्सा है जो अपने क्षेत्र की समस्याओं को विधानसभा में रखता हैं।

MLA किसे कहते हैं

MLA (member of the legislative assembly) यानी विधान सभा के सदस्य जिसे विधायक भी कहते है। MLA यानी विधायक क्षेत्र की जनता द्वारा चुना हुआ वह प्रतिनिधि होता है जो विधानसभा या विधानमंडल में उस क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करता है वह क्षेत्र की समस्याओं को विधानसभा या विधानमंडल में रखता है। MLA को ML भी कहते है ‘Member of Legislative’ यानी विधानमंडल का सदस्य

MLA का कार्यकाल पांच वर्ष का होता है मतलब हर पांच वर्ष में चुनाव के माध्यम से नए MLA का चयन किया जाता है यदि आवश्यकता हो तो राज्यपाल द्वारा मुख्यमंत्री के अनुरोध पर पांच वर्ष के कार्यकाल से पहले भी विधायक को उसके पद से हटाया जा सकता है। और यदि क्षेत्र में कोई आपातकालीन स्थिति उत्पन्न हो जाती है जिसमे चुनाव करवाना सम्भव नहीं होता। इस स्थिति में विधायक के कार्यकाल को महज 6 महीने बढ़ाया जा सकता है जिसके बाद चुनाव की प्रकिया करना आवश्यक होता है। विधायक के लिए उम्मीदवारों की संख्या निश्चित नहीं होती क्षेत्र की कोई भी पार्टी अपना उम्मीदवार खड़ा कर सकती है और यदि कोई नागरिक भी विधायक पद के लिए खड़ा होना चाहें तो वे भी निर्दलीय रूप से चुनाव लड़ सकता है।

किसी क्षेत्र विधायकों की संख्या उस क्षेत्र के आकर और उसमे रहने वाली जनसंख्या के आधार पर निश्चित की जाती है इसके बावजूद भी किसी भी राज्य की विधान सभा में विधायकों की संख्या 500 से अधिक नहीं होती और 60 से कम। जैसे की हमारे देश की सबसे बड़ी विधानसभा उत्तर प्रदेश में विधानसभा सदस्यों की संख्या 404 है लेकिन जिन राज्यों में कम आबादी निवास करती है उस राज्य में विधानसभा के कम सदस्य हो सकते है जैसे की सिक्किम जहाँ मात्र 32 विधानसभा सदस्य है।

हांलाकि विधायक सिर्फ भारत तक ही सीमित नहीं है क्योंकि हर देश को उसे चलाने के लिए कई उम्मीदवारों की आवश्यकता होती है भारत की ही तरह ऑस्ट्रेलिया, ब्राज़ील, कनाडा, हांग-कांग, उत्तरी आयरलैंड, संयुक्त राज्य अमेरिका और अन्य देशों में भी विधायक पद होता है जिसका कार्य भारत के विधायक की तरह ही विधानसभा या विधानमंडल में उस क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करना होता है। अलग-अलग देशों में इस पद को विभिन्न नामो से जाना जाता है। जैसे की अमेरिका में विधायक के लिए ‘लेजिस्लेटर’ शब्द का इस्तेमाल किया जाता है इसी के साथ अमेरिका के अलग-अलग में भी इसे कई दूसरे नामो से भी जाना जाता है जैसे जनरल एसेम्बली , जनरल कोर्ट और लेजिस्लेटिव एसेंबली।

इसी तरह हांग कांग में विधायक को ‘लेगको काउंसिलर’,  ब्राज़ील में ‘देप्युतादोस एस्तादुआई’, कनाडा में MPP ‘मेम्बर्स ऑफ प्रोविंशियल पार्लियामेंट’, MNA ‘मेम्बर्स ऑफ नेशनल एसेम्बली’, MHA ‘मेम्बर्स ऑफ हाउस ऑफ एसेम्बली’, और ऑस्ट्रेलिया में MLA, MHA, MHR के नाम से जाना जाता है। भले ही विधायक के लिए अलग-अलग देशों में अलग-अलग नाम इस्तेमाल किये जाते हो पर काम एक ही होता है।

MLA के पास बहुत सी राजकीय शक्तिया होती है जिनमे से सबसे महत्वपूर्ण है कानून बनाने की शक्ति, विधायक का मुख्य कार्य ही होता है शिक्षा, विवाह और तलाक, वन और जंगली जानवरों और पक्षियों का संरक्षण आदि पर कानून बनाना। विधायक विधान परिषद से प्राप्त कानून को 14 दिन के पारित कर सकता है यदि आवश्यकता हो तो उसमे परिवर्तन भी कर सकता है जिसे फिर जाँच के लिए विधानसभा भेजा जाता है फिर विधानसभा द्वारा इसे स्वीकार किया जाना या नहीं यह अधिकार विधानसभा होता है।

आशा है की अब आप जान गए होंगे की MLA किसे कहते हैं इसी तरह की अन्य जानकारी के लिए फेसबुक पेज को करें।

जाने:

Leave a Comment

Your email address will not be published.