संविधान सभा किसे कहते हैं “Samvidhan Sabha Kise Kahate Hain”

Samvidhan Sabha Kise Kehte Hain

संविधान सभा किसे कहते हैं संविधान सभा का भारतीय इतिहास और निर्माण में एक महत्वपुर्ण भूमिका रही है, जिसके बारे में हम आज आपको बताएँगे।

संविधान सभा किसे कहते हैं

संविधान सभा का गठन 6 दिसम्बर 1946 को भारतीय संविधान के निर्माण के लिए किया गया था जिससे भारतीय शासन व्यवस्था को नियंत्रित किया जा सके।

संविधान सभा मांग पहली बार 1895 में की गयी थी जिसके बाद 1938 में इसकी स्थापना निर्णय लिया गया। जिसके बाद 6 दिसम्बर 1946 में इसका गठन हुआ और 9 दिसम्बर 1947 से अपना कार्य आरम्भ किया। जिसमे 299 सदस्य थे जिनका चयन चुनाव द्वारा किया गया जिसके अध्यक्ष डॉ. राजेन्द्र प्रसाद थे।

1947 से पहले संविधान सभा में सदस्यों की संख्या 389 थी, भारत पाकिस्तान विभाजन के बाद यह संख्या घट कर 299 ही रह गयी, 299 सदस्यों में से 229 का चयन चुनाव द्वारा तथा 70 सदस्यों को 299 सदस्यों द्वारा चुना गया जिसमें 15 महिलाएँ भी शामिल थीं।

299 सदस्यों ने मिलकर 2 वर्ष, 11 माह, 18 दिन और 166 बैठकों के बाद हमारा संविधान तैयार किया गया, यानी की 26 नवम्बर 1949 को, जिसके 2 महीने बाद 26 जनवरी 1950 को इसे पूरे भारत में लागू कर दिया गया इसी के साथ कार्य पूर्ण होने के बाद 24 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान पर संविधान सभा के सभी सदस्यों ने हस्ताक्षर किए जिसके साथ ही कार्य की समाप्ति पर संविधान सभा को भी 24 जनवरी 1950 को भंग कर दिया गया।

भारतीय संविधान को 22 भागों में विभाजित किया गया था 26 नवम्बर 1949 में जब इसका निर्माण हुआ। इसमें 395 अनुच्छेद एवं 12 अनुसूचियाँ थी। समय-समय इसमें कई संशोधन किये गए जिसके परिणाम स्वरूप वर्तमान समय में 105 संविधान संशोधन के बाद इसमें 25 भाग है जिसमे 470 अनुच्छेद, 12 अनुसूचियाँ, 5 अनुलग्नक शामिल है जिसके साथ ही भारतीय संविधान विश्व का सबसे बड़ा लिखित संविधान हैं।

आशा है की भारतीय संविधान सभा से जुड़ी यह जानकारी आपको पसंद आयी होगी इसी प्रकार की जानकारी के लिए आप हमारी वेबसाइट को फेसबुक पर फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.